Consider God a Member of Your Family

Sri Ramcharitmanas Parayan

Sri Ramcharitmanas Parayan (Morning or Evening)

 

Daily 1½ Hrs. for 3 days / 9 days / One month

रामायण पारायण:-

ramcharitmanasपरमहंसजी ने कहा है, ‘‘इस ब्रह्मांडमे केवल मनुश्य ही इष्वर के विशय मे चर्चा कर सकता है, भगवत कथा का श्रवण कर सकता है, अपना जीवन प्रभू को समर्पित कर सकता है, और यही मानव जीवन का उद्देष्य है ।

मनुश्य अपना उत्थान चाहता है, तो उसे मनुश्य की तरह व्यवहार करना चाहिये, पषुओं की तरह नहीं। यदी एक बार यह समझ मे आ जाय कि जीवन का मुख्य उद्देष, मुख्य कार्यक्रम देवत्व है, तो सारा विधान बदल जाता है’’ गोस्वामी तुलसीदास जी को भी जीवन की वास्तविकता का स्मरण हुआ और प्रभू के सान्निध्य में उनकी अलौकिकता प्रकट हुअी ।

महर्शि वाल्मीकीकृत ‘रामायण ’ से प्रेरणा लेकर तुलसीदासजीने ‘रामचरित मानस’ की रचना की जो मानवीय आदर्षो की एक सुंदर प्रस्तुति है ।

विष्वसाहित्य में यह एक बेजोड लोकप्रिय गं्रथ है । स्वामीजी इस गं्रथ का पारायण करेंगे व श्रोता भी उनका साथ देेंगे ।

बालकांड से उत्तरकांड तक के किसी एक कांड का या इन सात कांडो का पाठ करनेका संकल्प हमे करना है । रामचरितमानस की चैपाइयां, दोहे और छंद किसी चमत्कारी मंत्र से कम नहीं है ।

राम कथा की संगितमय पारायण प्रस्तुति श्रोताओको आनंदित एवं भावविभोर करेगी ।

श्री रामचंद्र जी की कृपा, साधको पर सदैव बनी रहेगी ।